Wednesday, May 13, 2009

Gustakhiyan ....

हर्फ़ तुम्हारी उम्र लेकर जाविदाँ हो जाते है
तुम्हारी साँसे लेकर धड़कते रहते है
तुम्हारे ख्यालों की रानायियतें पैकर इनका
तुमसे पैदा हुए है तुम्हारे जुड़वां कहलाते है

तुम भी तो जुड़वां हो इन्ही हर्फों की
तुम्हें इन्ही में धड़कता पाया है मैंने
जो रह गया था इनकी आँखों में
वही तुम्हारा उजाला देखा है मैंने

1 comment:

Shalini Aggarwal said...

harf ka meaning hota hai letter lekin usko is nazm ke saath relate nahi kar payi....